27/10/15

तू आ भी जा - ‪भरत तिवारी #‎फैज़ाबादी‬ : Poem by Bharat Tiwari #Faizabadi

कोई टिप्पणी नहीं:

तू आ भी जा


(Richard Diebenkorn, Girl Looking at Landscape, 1957. Oil on canvas)

तू आ भी जा
कि मिट सकें
मायूसियाँ ज़हन से,
तू आ भी जा
भर ले मुझे
मख़मली आग़ोश में
के साँस लूँ मैं
डूब तेरे सीने में -
कटे ज़हर
घुला है जो
फ़िज़ाओं में
माहौल में,
तू आ भी जा
के इश्क़ ये
बचा रहे जहान में,
तू आ भी जा
दिखा ही दे
बेचैन ओ ग़मज़दाओं को
मुहब्बत की जलवागिरी
मुहब्बत का रास्ता।

‪#‎Faizabadi‬

tu aa bhi ja

tu aa bhi ja
ki mit sakeN
maayusiyaN zehan se,
tu aa bhi ja
bhar le mujhe
makhmali aagosh me
ke saaNs looN mai
doob tere siine me -
kate zehar
ghula hai jo
fizaoN me
maahoul me,
tu aa bhi ja
ke ishq ye
bacha rahe jahan me,
tu aa bhi ja
dikha hi de
bechain o ghamzadaoN ko
muhabbat ki jalwagiri
muhabbat ka raasta.

नेटवर्क ब्लॉग मित्र