28/7/10

गम का इलाज़ कराने गए हैं वो अपना / Gam Ka Ilaaz Karane Gaye Hain Wo Apna

गम का इलाज़ कराने गए है वो अपना |
खुशी तेरी बरदाश्त कर ना सका तेरा अपना |

वो अब अपनी खुशियाँ छुपा के रखता है
जब से चोर बना, वो जो था उसका अपना|

शाम के अकेले में गाता है सिर्फ मेरी गज़ल
ज़माने को कहे, मैं नहीं उसका अपना |

एक हुजूम में घिरा रहने लगा है अब तो
भूला वो वक्त जब मैं ही था उसका अपना |

जब भी थका हूँ तो बसेरा एक आये नज़र
वो खुदा ही है जिसका घर है मेरा अपना |

सर-ए दस्त* जिया** हो आँखें भरत जो दिखे
उनको मालुम है के मैं ही सिर्फ हूँ अपना |

*immediately
**light
उम्मीद है की पसंद आयी होगी
भरत


a ghazal by bharat tiwari ... photo from internet
 

Gam Ka Ilaaz Karane Gaye Hain Wo Apna |
Khushi Teri Baradasht Kar Na Saka Tera Apna |

Wo Ab Ap’ni Khushi’yan Chhupa Ke Rakhta Hai
Jab Se Chor Bana, Wo Jo Tha Uss’ka Apna|

Shaam Ke Akele Main Gata Hai Sirf Meri Ghazal
Zamane Ko Kahe, Main Nahin Uss’ka Apna |

Ek Hujuum Main Ghira Rah’ne Laga Hai Ab Toh
Bhoola Wo Waqt Jab Main Hi Tha Uss’ka Apna |

Jab Bhi Thaka Hoon Toh Basera Ek Aaye Nazar
Wo Khuda Hi Hai Jiska Ghar Hai Mera Apna |

Sar-E Dast* ziyaa** Ho Aankhen Bharat Jo Dikhe
Unn’ko Maalum Hai Ke Main Hi Sirf Hoon Apna |
*immediately
**light
with regards
Bharat Tiwari

5 टिप्‍पणियां:

  1. wah bharat bhaiya ! har sher lazawab ! ek mukammal rachna ke liye badhai...! aabhar !

    उत्तर देंहटाएं
  2. शाम के अकेले में गाता है सिर्फ मेरी गज़ल
    ज़माने को कहे, मैं नहीं उसका अपना ये भी ...एक प्रकार के प्रेम की परिभाषा है जी ...अच्छा लगा शब्दों का मेल ...भाई जी

    उत्तर देंहटाएं

स्वागत है

नेटवर्क ब्लॉग मित्र