14/9/10

उसे हिन्दी पर ही मोह आता है … #हिन्दी_में_बोलो #हिंदी_दिवस

hindi Divas हिन्दी दिवस २०१० 2010 bharat tiwari dastakar

आज 
उधार उतारने जाता  हूँ
हिन्दी में 
बात बताता हूँ

देखूँ तो 
दूंढूं उन्हें
वो पत्र 
दीदी के लिखे 
हिन्दी के शब्दों में घुली
ममता से डूबी वो पंक्ति
“आशीर्वाद मेरा घर में देना “
आशीर्वाद वो लेने जाता हूँ …

प्यार वो मिलता नहीं
मिठास वो आती नहीं 
कुछ समझ भी आती नहीं
असत्य है ये बात 
कि भाषा से का प्रभाव नहीं पड़ता
जो सम्मान प्रणाम से होता है
वो रिगार्ड्स में दिखता नहीं 
  
माँ जी गयी जब छोड़ कर
साथ गया समाचार पत्र
अब कहीं अगर दिख जाये तो 
उसमे विज्ञापन चिल्लाता है 
“.. तीस दिन में अंग्रेज़ी सीखें"
खूब मजाक उड़ाता है


गाने गाओ हिन्दी केऔर नाच करो अंग्रेज़ी के
फिल्मे देखो हिन्दी की
और बात करो हालीवुड की…
  
क्यों दोगलापन ये आता है ?
यहाँ कौन किसे झुठलाता है ?
ये कहाँ सिखाया जाता है ?
 अपने में झाँक के देखा तो 
दोषी अंदर मुस्काता है 


हिन्दी सुन परदेश में वो 
मगन क्यों हो जाता है
अपने दिल से पूछो तो तुम 

उसे हिन्दी पर मोह आता है
उसे हिन्दी पर मोह आता है

भरत तिवारी , नई दिल्ली , १४/०९/२०१०

6 टिप्‍पणियां:

  1. Hamare maa Hindi hai ....bake sab moseyion se muje koi eatraj bhe nahe hai per mere maa ka samman sab se upar hai .... baddapn use men hai ke kese bhe Mose ka aapman na kaer ke hamare maa ke ijjet ka pura khyal rakna hamara Kartavya hai ...Kese bhasa ka aapman kaer ke ..hinde ko aage lana bhe uske sath Anyai he hoga ....

    उत्तर देंहटाएं
  2. अब समय आ गया है कि हिंदी ही हमारी मात्र भाषा हो जाये ,
    ऐसे ही रचनाकारों कि जरूरत है जो सोते हुए लोगों को जगायें ,

    ऐसी रचना के लिए आप बधाई के पात्र हैं,

    उत्तर देंहटाएं
  3. ji badi bhavanaon se bharee rachana; achcha laga ye jankar ki antatah ham apani hi bhasha ki or lautane ki koshish kar rahe hai badhiya baat hai

    उत्तर देंहटाएं
  4. aapki is nazam se desh bhakti aur apne desh ki sanskriti ke prati jo junoon hai , uski khusboo ki mehak aati hai. sorry am little weak in hindi since am from south but i have tried to express my admiration for this wonderful poem in my own way.tk care n god bless bharatji.

    उत्तर देंहटाएं
  5. क्या कहना!! आपने ह्रदय की व्यथा को बड़े आत्मीय शब्दों मे उतारा है|

    हिन्दी सुन परदेश मे वो
    मगन क्यों हो जाता है !!

    बधाई आदरणीय भरत जी!

    उत्तर देंहटाएं

स्वागत है

नेटवर्क ब्लॉग मित्र