13/10/10

याद मिटा दूँगा yaad mita doonga

Vincent Van Gogh - Olive Trees With Yellow Sky And Sun 

Vincent Van Gogh - Olive Trees With Yellow Sky And Sun

बीती रात

इक ख्वाब टूटा था

सहमा हूँ

शाम होने को है

 

घर को दस्तक

ना दे

नाम दरवाजे से हटा दो

 

तस्वीरें जलानी है

हर तरफ़ पुर्ज़े पड़े हैं

चेहरे हों या हर्फ़

धुंध छानी ही थी

 

भूलने को उम्र पड़ी है

याद मिटा दूँगा

एक दिन

 

ख्वाबों में बसा नहीं करता

सामने आइना रखा है मेरे

तोड़ के अपनी तस्वीर

तू खुद से कहाँ भागेगा

परछाईं जाती नहीं

अमावस आती नहीं

पूरे चाँद की रात

हमेशा चांदनी देती नहीं

 

जो डूबेगा सूरज

पहाड़ियों के दरख्त के पीछे

मकान तुझे दिख जायेगा

घर नज़र ना आयेगा

तेरा घर नज़र ना आयेगा

beeti raat

ik khwab toota tha

sahama hoon

shaam hone ko hai

 

ghar ko dastak

na de

naam darawaaje se hata do

 

tasweeren jalaani hain

har taraf purze pade hain

chehre hon ya harf

dhundh chhani hi thi

 

bhoolne ko umr padi hai

yaad mita doonga

ek din

 

khwaabon men basa nahin karta

saamane aaina rakha hai mere

tod ke apani tasweer

tuu khud se kahan bhagega

parachhain jaati nahin

amaawas aati nahin

poore chaand ki rat

hamesha chaandni deti nahin

 

jo doobega sooraj

pahadiyon ke darakht ke peechhe

makaan tujhe dikh jayega

ghar nazar na aayega

tera ghar nazar na aayega

3 टिप्‍पणियां:

  1. POORE CHAAND KI RAAT HAMESHA CHAANDNI DETI NAHI..............WAH BHARAT JI GREAT. SACH HI TOH HAI..........ZINDGI KI EK AUR SACHCHAYEE SE RUBARU KARA DIYA AAPNE........GOD BLESS U

    उत्तर देंहटाएं
  2. ख्वाबों में बसा नहीं करता

    सामने आइना रखा है मेरे

    तोड़ के अपनी तस्वीर
    ...
    तू खुद से कहाँ भागेगा

    परछाईं जाती नहीं

    अमावस आती नहीं

    पूरे चाँद की रात

    हमेशा चांदनी देती नहीं

    जो डूबेगा सूरज

    पहाड़ियों के दरख्त के पीछे

    मकान तुझे दिख जायेगा

    घर नज़र ना आयेगा

    तेरा घर नज़र ना आयेगा

    किस कदर जूझ रही है कविता एक ख्वाब से और फिर यथार्थ से मिलकर बतिया उठी है - तोड़ कर अपनी तस्वीर तू खुद से कहाँ भागेगा ... भरत जी , कविता में कुछ है ऐसा जो खींचता है अपनी तरफ ..

    उत्तर देंहटाएं

स्वागत है

नेटवर्क ब्लॉग मित्र