15/10/10

Izhaar-E-Ishq Karne Ki Soch

Izhaar-e-Isq Karne Ki Sonch

इज़हार-ए-इश्क करने की सोच
भरत २०:४६ १४/१०/२०१० नई दिल्ली

इज़हार-ए-इश्क करने की सोच
इबादत-ए-इश्क करने की सोच


कब है अलग खुदा इश्क से
उम्र साथ बसर करने की सोच


वक्त रुकता है दर-ए-यार पर
घर उसके दुआ करने की सोच


निगाहों से वो करम बरसाता है
उस से आँखें चार करने की सोच


जो देता है ये बे-इंतेहा खुशियाँ
तू उसको खुश करने की सोच


बड़ी है तेज रफ़्तार-ए-उम्र ‘भरत’
सफ़र साथ तय करने की सोच

Izhaar-E-Ishq Karne Ki Soch
Bharat 20:46 14/10/2010 New Delhi

Izhaar-E-Ishq Karne Ki Soch
Ibadat-E-Ishq Karne Ki Soch


Kab Hai Alag Khuda Ishq Se
Umr Saath Basar Karne Ki Soch


Waqt Rukta Hai Dar-E-Yaar Par
Ghar Usske Dua Karne Ki Soch


Nigahon Se Wo Karam Barsaata Hai
Uss Sey Aankhen Chaar Karne Ki Soch


Jo Deta Hai Ye Be-Inteha Khushiyaan
Tu Ussko Khush Karne Ki Soch


Badi Hai Tez Rafatar-E-Umr ‘Bharat’
Safar Saath Taya Karne Ki Soch

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

स्वागत है

नेटवर्क ब्लॉग मित्र