10/10/10

महफ़िल को शमा दिखाओ तो क्या Mehafil Ko Shama Dikhao To Kya

The-Four-Seasons-Spring 

महफ़िल को शमा दिखाओ तो क्या

अब कोई कमाल दिखाओ तो क्या

 

तूफ़ान था, गया साथ हवाओं के

उसे हुस्न के जलवे दिखाओ तो क्या

 

तेरे होने से आँगन आँगन था

धूल अब लाख हटाओ तो क्या

 


मेरे पास चंद अशार है

तेरे साथ रंग-ओ-खुमार है  

दौलत पे जो मर जाओ तो क्या

 

कब कदर की जज़्बे की तूने

नज़रों को तेरी फुरसत थी कहाँ

रूह जो मर के भी है प्यासी 

अब कब्र पे दिये जलाओ तो क्या

 


हाल-ए-दिल भरत बयान करता है

समझ के भी न समझ पाओ तो क्या

Mehafil Ko Shama Dikhao To Kya

Ab Koi Kamaal Dikhao To Kya

 

Toofaan Tha, Gaya Saath Hawaaon Ke

Usse Husn Ke Jalave Dikhao To Kya

 

Tere Hone Se Aangan Aangan Tha

Dhool Ab Lakh Hatao To Kya

 

Mere Paas Chand Ashar Hai

Tere Saath Rang-O-Khumar Hai

Daulat Pe Jo Mar Jaao To Kya

 

Kab Kadar Ki Jazabe Ki Tuune

Nazaron Ko Teri Furasat Thi Kahan

Ruuh Jo Mar Ke Bhi Pyasi Hai

Ab Kabr Pe Diye Jalao To Kya

 

Haal-E-Dil ‘Bharat’ Bayan Karta Hai

Samajh Ke Bhi Na Samajh Paao To Kya

………………………………Bharat Tiwari / New Delhi 10/10/10

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

स्वागत है

नेटवर्क ब्लॉग मित्र