17/11/10

dhadkano ke thamne ki gunjaaish धडकनों के थमने की गुंजाइश

नमी-ए-सर्द-ए-शाम की गर्माइश
तुझ से दूर होने की अजमाइश...

बेतरतीब कमरों की उदास रातें
अजीब इन सिलवटों की फरमाइश ...

गर्म गली में बच्चों का शोरगुल
ये उम्र उस खुदा की नियाइश * blessing

अँधेरी है शब के चाँद गायब है
है धडकनों के थमने की गुंजाइश...

सुबह आवाज़ दे रही है फिर ‘भरत’
लगा दो दिल-ए-मासूम की नुमाइश ...

© सर्वाधिकारसुरक्षित भरत तिवारी

nami-e-sard-e-shaam ki garmaaish
tujh se door hone ki ajmaaish...


betarteeb kamron ki udaas raaten
ajeeb inn silawaton ki farmaish ..


garm gali men bachchon ka shorgul
ye umr uss khuda ki niyaish * blessing


andheri hai shab ke chaand gaayab hai
hai dhadkano ke thamne ki gunjaaish...


subah aawaaz de rahi hai fir ‘bharat’
laga do dil-e-masoom ki nummaaish ...


© Bharat Tiwari all rights reserved

2 टिप्‍पणियां:

  1. behtareen kamron ki udas ratein....ajeeb inn silwaton ki farmaish.....bahut khoob Bharat ji..

    उत्तर देंहटाएं
  2. गर्म गली में बच्चों का शोरगुल
    ये उम्र उस खुदा की नियाइश .........सुन्दर शब्दों की पेशकस जी !!!!!

    उत्तर देंहटाएं

स्वागत है

नेटवर्क ब्लॉग मित्र