3/12/10

Chhalia / छलिया

Chhali- krishna by Bharat Tiwari Dastakaar writer

2 टिप्‍पणियां:

  1. इतनी समझ हमें दे देना प्रभु जी...
    दिखे वहां भी जहाँ आप छुप जाते हैं...

    क्या बात है भरत जी ....
    आप तो हमें हर बार ....
    एक नए रूप में नजर आते हैं...

    अतुलनीय रचना के लिए बहुत बधाई ....

    उत्तर देंहटाएं
  2. इतनी समझ हमें दे देना प्रभु जी...
    दिखे वहां भी जहाँ आप छुप जाते हैं...

    क्या बात है भरत जी ....
    आप तो हमें हर बार ....
    एक नए रूप में नजर आते हैं...

    अतुलनीय रचना के लिए बहुत बधाई ....

    उत्तर देंहटाएं

स्वागत है

नेटवर्क ब्लॉग मित्र