8-1-11

ओस

इन 
सर्द 
हवाओं में
इन नर्म 
फिजाओं में

गर्मी 
तेरे ओस की

आती है 
दुआओं में 
...............................................भरत
In 
Sard 
Hawaon Me
In Narm 
Fizaon Me

Garmi 
Tere Os Ki

Aati Hai 
Duaon Me

.................…bharat

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

स्वागत है

नेटवर्क ब्लॉग मित्र