9-1-11

एक रोशनी ने बुझते हुए बोला

एक रोशनी  ने बुझते हुए बोला
सो  जा, के रात  बहुत लम्बी है
वो चिराग  मजारों पे जलते  हैं 
'भरत' तेरी उम्र  बहुत लम्बी है
Ek Roshni Ne Bujhnte Hue Bola
So Ja, Ke Raat Bahut Lambi Hahi...
Wo Chirag Majaron Pe Jalte Hain
'Bharat' Teri Umr Bahut Lambi Hai...

1 टिप्पणी:

  1. बहुत खूब भारत जी ...

    अब तो तेरी ही नहीं ...
    अपनी लम्बी उम्र की भी दुआ करते हैं ..
    मेरी भी उम्र लग लग जाये तुम्हे .........
    उस खुदा से दुआ मांगी थी कभी ..!!!!

    उत्तर देंहटाएं

स्वागत है

नेटवर्क ब्लॉग मित्र