25/1/11

गुलाबी


आज आसमान को देख के
थोड़ा मुस्कुरा देना
वो नीला रंग
तुम्हे कुछ और गुलाबी कर छोड़ेगा

अपनी आँखों से कहना ,
देखें मेरी आँखों से तुम्हे
देखना सारी दुनिया 
तुम्हे 
तुम सी ही दिखेगी


पानी सा मेरा जिस्म , पसीने से तर ब तर
आओगे तुम तो सावन कुछ सुकून देगा


मेरी ख्वाहिश के साया मुझे तुम्हारा मिले
कुदरत से ये करिश्मा
मेरी किस्मत करा लेगी 





aaj aasmaan ko dekh ke
thoda muskura dena
wo neela rang
tumhe kuch aur gulabi kar chhodega


apni aankhon se kahana ,
dekhen meri aankhon se tumhe
dekhna saari duniya 
tumhe 
tum si hi dikhegi


pani sa mera jism , pasine se tar b tar
aaoge tum to savan kuch sukoon dega


meri khwahish ke saya mujhe tumhara mile
kudarat se ye karishma
meri kismat kara legi

4 टिप्‍पणियां:

  1. Namrata Singh bahut sunder......kudart ka yeh karishma meri kismat kara legi....waah.....apne hathon ki lakeeron main basa le mujhko....
    Main hoon tera to naseeb apna bana le mujhko....
    Mujhse tu poochta raha wafa ke maane....
    Yeh teri saada dili maar na daale mujhko

    उत्तर देंहटाएं
  2. Aastha aur atoot vishwas ke yeh aayam hi racna ki prerna hai....inka sambal banaye rahiyega... sa sneh. Ashwini tyagi

    उत्तर देंहटाएं
  3. Tanu Kandhari ने कहा
    LAJAWAAB.....AAFREEN.......BAHAUT UMDA........
    bahaut haseen sa khwaab dekha hai in aankhon ne
    ise palkon mein meri base rehne do
    kisi se na kehna mera raaz-e-mohabbat
    kahin mere khwaab ko kisi ki nazar lag na jaye.........

    उत्तर देंहटाएं
  4. Shobha Mishra ने कहा
    वाह भरत जी ! एक बार फिर से आपकी बेहद खूबसूरत रचना.. बहुत- बहुत शुभकामनायें ..

    आज की सुबह कुछ नई सी है..
    हवाओं में खुशबु सी तेरी आने लगी है..
    तेरी आँखों से देखी ये इक नयी दुनिया ..
    इन् आँखों में ख़ुशी की नमी सी है..
    हर ख्वाहिश तेरी पूरी खुदा करे..
    तेरी किस्मत में करिश्मे ये खूबसूरत होते रहें ..
    खुदा से अब दुआ तो मांगी ही यही है
    ...!!!

    उत्तर देंहटाएं

स्वागत है

नेटवर्क ब्लॉग मित्र