23/2/11

भारी पत्थर...


मुझे से ज्यादा
शायद बहुत ही ज्यादा
मजबूत हो
या
अब
हो गए हो
.
कोशिश शायद मैंने भी करी होगी
शायद पत्थरों को
रखा होगा
सीने पे
मैंने भी
शायद
सह नहीं पाया
और
कमजोरी में ही खुशी
मिली
तभी
तभी तो ऐसा हूँ
और
ऐसे मजबूत से तुम, के मुझे नहीं होना
.....
...........शायद भरत

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

स्वागत है

नेटवर्क ब्लॉग मित्र