30/4/11

सुने ज़रा ३०-०४-२०११ / Sune Zara 30-04-2011

1 टिप्पणी:
अब ये ठानी है खुशियों तुझे तलाश नहीं करना है 

अब है मालूम के तू तस्सलीयों में छुप के रहती है


Ab ye thhani hai ke khushiyon tujhe talaash nahi karna hai


ab hai maalum ke tu tassali'yon me chhup ke rahti hai



29/4/11

Apne Saaye Me Bhi Dikha Khud Ko / अपने साये में भी दिखा खुद को

2 टिप्‍पणियां:


28/4/11

विसुअल ब्लाक और इनटेलैकचुअल ब्लाइंडनेस

कोई टिप्पणी नहीं:

विसुअल ब्लाक और इनटेलैकचुअल ब्लाइंडनेस...दोनों ही इंसान को अपनी उम्र से कई साल पीछे, घड़ी के किसी एक टिक पे रोक के रखते हैं ,और जब अचानक, किसी एक पल में, वक़्त की छलांग लगती है, तो इंसान आज (अब) का सामना कर चौंक जाता है...

जैसे की ... किसी बच्चे को जब 5 साल की उम्र का देख हम कहीं लन्दन/अमेरिका चले जाते हैं ...तो उसके लिए हमारी सोच का वक़्त वहीँ रुक जाता है...इस दौरान हम ज़रूर बढ़ रहे होते हैं...दुनिया बढ़ रही होती है...पर हमारे ज़ेहन में वो बच्चा अक्ल और शरीर से पाँच साल का ही रहता है...हम उसे बढ़ने ही नहीं देते...और फिर जब 10 साल के बाद हम उससे मिलते हैं तब हमारा रिएक्शन होता है..."अरे !!! यह इतना बड़ा हो गया !!! ???...ओह!!!  माय गौड ... इतनी बड़ी बड़ी बातें भी करने लगा...!!!

इन दोनों ही सूरतों से हमारी इंटरटेन्मेंट इंडस्ट्री और दुनिया जूझ रही है...:) 

अरे !!! वो राज कुमार गुप्ता...वो तो मेरे एक्स-बोयफ़्रेंड का सहायक था... उसे तो कोंटीन्युटी लिखना भी नहीं आता था... और उसने दो-दो फिल्में दिरेक्ट कर लीं..."सच यार अल्लाह मेहरबान तो गधा पहलवान"  ...इस रिएक्शन से पहले एक बार भी हम यह नहीं सोचते की 10 साल पहले हम भी तो जैसे आज हैं वैसे नहीं थे.
अमल दोंन्वार
अमल दोंन्वार.... फिल्म इंडस्ट्री के उभरते हुए प्रतिभाशाली गीतकार , लेखक और दिग्दर्शक हैं




27/4/11

us ek pal ne bujha diya / उस एक पल ने बुझा दिया

2 टिप्‍पणियां:

24/4/11

आखर कलश 23 / 04 / 2011

कोई टिप्पणी नहीं:




comment on  AAKHAR KALASH also; please

22/4/11

Tumne milna hi nahin tha to aaye kyon ho / तुमने मिलना ही नहीं था तो आये क्यों हो

6 टिप्‍पणियां:


सुने ज़रा २२-०४-२०११ / Sune Zara 22-04-2011

कोई टिप्पणी नहीं:
Kyon Na Mar Jaaoon Dekh Yaar Ka Jalwa
Kyon Na Tham Jaaye Saanson Ka Chalna...
Sanwra Mera Yaar Dikhe Sarabor e Husn
Kyon Na Sil Jaaye Mere Labon Ka Hilna....
Bharat.
Regards Bharat Tiwari | Sent on my BlackBerry® from Vodafone
क्यों ना मर जाऊं देख यार का जलवा
क्यों ना थम जाये साँसों का चलना
सांवरा मेरा यार दिखे सरोबर-ए हुस्न
क्यों ना सिल जाये मेरे लबों का हिलना ... भरत 

21/4/11

Kaun sang tere hamesha ?

4 टिप्‍पणियां:
Aani thi
Usski aahat
Nahi aayi

Sapne tumne Kyon bune
Wo duniya asal nahin
Asal hai to Bas...
Jo beet gaya
Uska ahsaas
uske sapne
Uska naam
Uske naam ke saath Juda kisi ka naam

Asal hai to Bas...
Tere dil ka dard
Ke ye dard aajanm tere saath hai
Ke Iss me hi Khush ho le
Ke kabhi tu tha uska

Zindagi ke gamon ko ab tu apna dushman na sonch  tere saathi hai won sang tere hamesha....

Bharat 21/4/11 in route nainital delhi

Regards Bharat Tiwari | Sent on my BlackBerry® from Vodafone

आनी थी
उस की  आहाट
नहीं आई

सपने तुमने क्यों बुने
वो दुनिया असल नहीं
असल है तो बस...
जो बीत गया
उसका अहसास
उसके सपने
उसका नाम
उसके नाम के साथ जुड़ा किसी का नाम

असल है तो बस...
तेरे दिल का दर्द
के ये दर्द आजन्म तेरे साथ है
के इस में ही खुश हो ले
के कभी तू था उसका

ज़िन्दगी के ग़मों को अब तू अपना दुश्मन न सोंच  तेरे साथी है वों संग तेरे हमेशा....

18/4/11

kahin kuch jud to raha nahin hai andar

2 टिप्‍पणियां:

17/4/11

Tera aana hai purab ki hawa ka jhonka / तेरा आना है पूरब की हवा का झोंका

1 टिप्पणी:



15/4/11

गौरैया / Gauraiya

9 टिप्‍पणियां:

14/4/11

सुने ज़रा १४-०४-२०११

2 टिप्‍पणियां:
किसी को दोस्त ना मानो तो बुरा है
किसी को दोस्त बना लो तो बुरा है
कदमो को रख दीवारों में 'दस्तकार'  
आज के दौर में हर शख्स खुदा है ...


kisi ko dost na maano to bura hai
kisi ko dost bana lo to bura hai
kadmon ko rakh deewaron me 'dastakaar' 
aaj ke daur me har shakhs khuda hai ...

13/4/11

Jab Sooraj Doob Raha Tha... / जब सूरज डूब रहा था

3 टिप्‍पणियां:


गुलाम अली ~ ठुमरी / Gulam Ali ~ Thumri

कोई टिप्पणी नहीं:


ummed hai ki pasand aayega...
regards
Bharat

11/4/11

तुम्हारे कारनामे / Tumhare Kaarname

7 टिप्‍पणियां:






9/4/11

Tum.... / तुम ...

कोई टिप्पणी नहीं:




6/4/11

Bata do aaj / बता दो आज

5 टिप्‍पणियां:







AB TO NEEND TOD KE HI DAM LOONGA / अब तो नींद तोड़ के दम लूँगा

1 टिप्पणी:
पुरानी रचना ...








2/4/11

Us’ki nazron ki hai talash mujhe / उसकी नज़रों की है तलाश मुझे

8 टिप्‍पणियां:










नेटवर्क ब्लॉग मित्र