6/4/11

Bata do aaj / बता दो आज








5 टिप्‍पणियां:

  1. इस रूह की तड़प , उस रूह की बेचैनियाँ
    रब्बा कैसे मिटे ...

    बेताब मोहब्बत की तड़प की बहुत ही मासूमियत से अभिव्यक्ति की गयी है .. बहुत ही खूबसूरत .. बहुत शुभकामनायें आपको

    उत्तर देंहटाएं
  2. इस रूह की तड़प , उस रूह की बेचैनियाँ
    रब्बा कैसे मिटे ...

    बेताब मोहब्बत की तड़प की बहुत ही मासूमियत से अभिव्यक्ति की गयी है .. बहुत ही खूबसूरत .. बहुत शुभकामनायें आपको

    उत्तर देंहटाएं
  3. इस रूह की तड़प , उस रूह की बेचैनियाँ
    रब्बा कैसे मिटे ...

    बेताब मोहब्बत की तड़प की बहुत ही मासूमियत से अभिव्यक्ति की गयी है .. बहुत ही खूबसूरत .. बहुत शुभकामनायें आपको

    उत्तर देंहटाएं

स्वागत है

नेटवर्क ब्लॉग मित्र