15/4/11

गौरैया / Gauraiya


9 टिप्‍पणियां:

  1. gauriyaan ye pyar tum thukra na paogi
    shham hote hi aangan main nazar aaogi ye dua hai meri.........

    उत्तर देंहटाएं
  2. Dr Sahab... thanks for big compliment
    D.K. Ji.. thanks ./ be a part of the group
    Pappu ... thanks soma
    Rana bhai .. :)

    उत्तर देंहटाएं
  3. गौरैया जैसी ही प्यारी सी है आपकी कविता भरत जी......जी करता है गोद में लेकर बैठ जाऊं इस प्यारी सी
    गौरैया को :)

    उत्तर देंहटाएं
  4. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुन्दर कविता...

    अनु

    उत्तर देंहटाएं

स्वागत है

नेटवर्क ब्लॉग मित्र