18/4/11

kahin kuch jud to raha nahin hai andar


2 टिप्‍पणियां:

  1. बारहा दिल है तोडा उसने आशिक का
    फिर एक बार तैयारी है दोबारा अंदर ..........हिम्मत की दाद देते हैं आपकी ........बहुत खूब......!!

    'खुद को' उसकी उंगलिया जब हैं छूती
    दिल में मेरे सन्तूर झनकती है अंदर............जलतरंग का एहसास.........♫

    उत्तर देंहटाएं

स्वागत है

नेटवर्क ब्लॉग मित्र