21/4/11

Kaun sang tere hamesha ?

Aani thi
Usski aahat
Nahi aayi

Sapne tumne Kyon bune
Wo duniya asal nahin
Asal hai to Bas...
Jo beet gaya
Uska ahsaas
uske sapne
Uska naam
Uske naam ke saath Juda kisi ka naam

Asal hai to Bas...
Tere dil ka dard
Ke ye dard aajanm tere saath hai
Ke Iss me hi Khush ho le
Ke kabhi tu tha uska

Zindagi ke gamon ko ab tu apna dushman na sonch  tere saathi hai won sang tere hamesha....

Bharat 21/4/11 in route nainital delhi

Regards Bharat Tiwari | Sent on my BlackBerry® from Vodafone

आनी थी
उस की  आहाट
नहीं आई

सपने तुमने क्यों बुने
वो दुनिया असल नहीं
असल है तो बस...
जो बीत गया
उसका अहसास
उसके सपने
उसका नाम
उसके नाम के साथ जुड़ा किसी का नाम

असल है तो बस...
तेरे दिल का दर्द
के ये दर्द आजन्म तेरे साथ है
के इस में ही खुश हो ले
के कभी तू था उसका

ज़िन्दगी के ग़मों को अब तू अपना दुश्मन न सोंच  तेरे साथी है वों संग तेरे हमेशा....

4 टिप्‍पणियां:

  1. achcha likha hai....tere nam se jude kai aur nam....................sundar artho se bhari abhivyakti.

    उत्तर देंहटाएं
  2. असल है तो बस...
    तेरे दिल का दर्द
    के ये दर्द आजन्म तेरे साथ है
    के इस में ही खुश हो ले
    के कभी तू था उसका

    khoobsurat abhivyakti ....

    उत्तर देंहटाएं

स्वागत है

नेटवर्क ब्लॉग मित्र