2/4/11

Us’ki nazron ki hai talash mujhe / उसकी नज़रों की है तलाश मुझे











8 टिप्‍पणियां:

  1. आपका अंदाज़-ए-बयाँ वल्ला कमाल है जी वल्ला कमाल है..भरत जी बेहद ही ख़ूबसूरत लफ़्ज़ों में बयाँ हुवा बेहद अप्रतिम ख्याल है आपका... बधाई !!

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुंदर लिखते हैं आप। यूं ही, कायम रहे ये जज़्बा।

    उत्तर देंहटाएं
  3. चढ़ी सीढियाँ तमाम सर ये झुका
    जो था न वहाँ क्यूँ बुलाया मुझे ...?
    बहुत ही खूबसूरत शब्दों में बयाँ बहुत ही खूबसूरत ख़याल ... आपको बहुत शुभकामनायें भरत जी

    उत्तर देंहटाएं
  4. its beautiful....itni gehri baat itni saadgi se keh di...

    उत्तर देंहटाएं
  5. smriti maheshwari1:15 pm, मई 04, 2011

    beautiful...itni gehri baat itni saadgi se keh di....

    उत्तर देंहटाएं

स्वागत है

नेटवर्क ब्लॉग मित्र