24/5/11

सुने ज़रा २४/०५/२०११

फिर से एक बार तुम मुझे न परखो
अब के जाँ निकल जायेगी याद रखो...




कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

स्वागत है

नेटवर्क ब्लॉग मित्र