19/5/11

Purani vafaon va’don ki kuch i’zzat rakhiye / पुरानी वफ़ाओं वादों की कुछ इज्ज़त रखिये

kuch izzat rakhiye hindi

kuch izzat rakhiye roman

16 टिप्‍पणियां:

  1. Daastaan-e- muhabaat kya khoob baya ki ha Bharat...ek ek lavj me aashiki jhalak rahi hai

    उत्तर देंहटाएं
  2. कोई मेरी नजरों से देखे आसमाँ को .. शब्द शब्द सितारों की तरह चमक रहें हैं ...:) ~ * ~ दस्तकार ~ * ~ *** लाजवाब ****

    उत्तर देंहटाएं
  3. behad umda dost,dil ko choo liya.

    उत्तर देंहटाएं
  4. ''ये बयान - ए- मोहब्बत ये दिले- ए- आशिक की दास्ताँ''
    वफ़ा की ओड़नी से रहेगी सदा जवां.................यही दुआ है !!!!

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत ही खूबसूरत ...बहुत ही गहरी अंतर्मन को स्पर्श करती सशक्त अनुभूति ...तिवाडी जी अपार शुभ कामनाएं....

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत खूब. पुराणी बातें पुरानी यादें, पुराना प्यार बहुत महत्व रखता है उस की इज्जत होना जरुरी है

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत खूब. पुराणी बातें पुरानी यादें, पुराना प्यार बहुत महत्व रखता है उस की इज्जत होना जरुरी है

    उत्तर देंहटाएं
  8. "Subhanallah" Bharat Bhai, Bahut hi Khub kaha Aap ne Bharat Bhai.

    उत्तर देंहटाएं
  9. "Subhanallah" Bharat Bhai. Bahut Khub kaha Aap ne Wah Wah.

    उत्तर देंहटाएं
  10. बेनामी2:19 pm, मई 22, 2011

    waaah............
    kush to izzat rahkiye......
    good ILTIJA...........
    keep i tup

    be blessed.. naSim

    उत्तर देंहटाएं

स्वागत है

नेटवर्क ब्लॉग मित्र