31/7/11

Like this only

1 टिप्पणी:
















saadar Bharat Tiwari

Blogger Labels: LikeThisOnly,Bharat,Tiwari,

28/7/11

More Nijaam Sai मोरे निजाम साईं

कोई टिप्पणी नहीं:



saadar Bharat Tiwari







































Blogger Labels: Nijaam,Bharat,Tiwari,Falsafa,Sabse,Mere,Maango,Maano,Dekho,Soncho,Sikhaya,Socho,Maine,Piya,Vahi,band,Rahiyo,Hain,Tumhi,sune,maane,hamare

20/7/11

सूखी मिट्टी के गीले शब्द sookhi mitti ke geele shabd

3 टिप्‍पणियां:



os ki boonden
bhaap ban ud gayeen
un sab boondon men tum the
jaane kab hogi barish...

dil ki mitti par sookhi dararen ukar aai hain
aankhon ki nami sookh gai
palken nahin jhapakti aajkal
anant intazaar bichha raste par
jaane kab hogi barish...

vo baadal ka tukada
tera aks sa liye hue
atak gaya zahan men
ik aas si bandha ke
jaane fir kahan gaya
saare aakash talaashe
rah gaya
nazron men tari ik intazaar
mitti se kshitij tak
jaane kab hogi barish...

© bharat tivari
New Delhi

16/7/11

बेढंगा समय और उसकी चालें... नरेन्द्र व्यास

1 टिप्पणी:

अपनी अध्भुत सोंच और कलम से एक बार फिर विस्मय करते भाई नरेन्द्र व्यास जी ने वक्त की चाल को दिखा दिया है ... मंत्रमुग्ध भरत तिवारी

10/7/11

कोई टिप्पणी नहीं:

साजन अपने खेल को खूब रच्यो तुम रंग
पर्दा पीछे छुप गयो बदल के आपन रंग !
पल मा चैन छीन के फेरे हौ अब नैन
अब छोडो ई छुपन छुपाई 'भरत' न छोड़ीयें संग !

9/7/11

सुने ज़रा sune zara 9/7/2011

कोई टिप्पणी नहीं:

हुज़ूर आप सब जान लेते हैं
दिल की हर बात मान लेते हैं...
मिलते नहीं हैं आप 'भरत' से
बतायें तो कैसे पहचान लेते है...
20080802 me

huzoor aap sab jaan lete hain
dil ki har baat maan lete hain...
milte nahin hain aap 'bharat' se
batayen to kaise pahchaan lete hai...

jao... brahmaa / जाओ ...ब्रह्मा

3 टिप्‍पणियां:


8/7/11

tum main hum / तुम मैं हम

3 टिप्‍पणियां:

उन बातों का क्या किया जाये alone35
उन रातों को अब कैसे जिया जाये
उन दिनों "हम" थे
अब एक "मैं "
और एक और एक "तुम"
तुम आना कभी घर एक बार फिर
जी के देखेंगे जिंदगी "हम" एक बार फिर ...

भरत ७/७/२०११ २३:५३

                                                                            

                                                                              photograph from internet

un baaton ka kya kiya jaaye
un raton ko ab kaise jiya jaaye
un dino "ham" the
ab ek "main "
aur ek aur ek "tum"
tum aana kabhi ghar ek baar fir
ji ke dekhenge zindagi "ham" ek baar fir ...

bharat 7/7/2011 23:53

6/7/11

दूरी को करीब से देखना / doori ko kareeb se dekhna

3 टिप्‍पणियां:

read in full

See the Art work.. Jhuma:: find me out

doori ko kareeb se dekhna
sabse mushkil ahasaas
jaanaleva paristithi banti hai
saari indriyon ko gujarna padta hai …
… pariksha se
aankhe, saamane dekh rahi hoti hain beeta kal
dil, us kal ko vartamaan banane ki ji tod jaddojahad me laga hota hai
dimaag, kaam karana chhod deta hai
vo kare bhi kya usaka aastitva khatre me hai

jo aavaaz sangeet ho
jeevan-rag ho
aur kanon ke ekadam paas
itani
ki aatma se ghulne ko ho
usako chheen liya jaaye
aur rag badal di jaaye

…doori ko kareeb se dekhna
dimaag majaboor ho raha hai
bahara karne ko
jeevan-rag gayi
jeevan sangani gayi
saanse
… bas javab dene ki taiyari me lag gayeen

4/7/11

आज जी भर के जी लेना है / aaj ji bhar ke ji lena hai

कोई टिप्पणी नहीं:

आज बारिश-ए-हुस्न-ए-महबूब में भीगा हूँ
आज रंग-ए-इनायत-ए-रब  में भीगा हूँ
उनके इश्क की गर्म खुशबू में डूबा हूँ
उनकी आँखों की मासूम चमक से दमका हूँ
उनका कर के तस्सवुर आज
उनकी बाँहों के समंदर में डूबा हूँ
आज सी मुलाकात हुई न कभी
आज सी हसीं रात हुई न कभी
आज आया चाँद ज़मीन पे है
आज ही दिल-ए-आशिक मुस्कुराया है
ख्यालों को कलम बंद किया उसने मेरे
जान दी डाल हर्फों में है उसने मेरे
उसकी अदाओं से गीत बनता है
उसकी यादों से घर महकता है
नर्म उँगलियों को चूम लेना है
नर्म होठों को चूम लेना है
आज मुझको शराबी होना है
आज रिवायतों को तोड़ देना है
आज जी भर के जी लेना है
आज जी भर के जी लेना है
-===-
aaj barish-e-husn-e-mehboob men bheega hoon
aaj rang-e-inayat-e-rab  men bheega hoon
unke ishq ki garm khushabu men dooba hoon
unki aankhon ki masoom chamak se damka hoon
unka kar ke tassavur aaj
unki baanhon ke samandar men dooba hoon
aaj si mulakaat hui n kabhi
aaj si hasin rat hui n kabhi
aaj aaya chaand zameen pe hai
aaj hi dil-e-aashiq muskuraya hai
khyalon ko kalam band kiya usne mere
jaan di dal harfon men hai usne mere
uski adaon se geet banta hai
uski yaadon se ghar mahakta hai
narm ungaliyon ko choom lena hai
narm hothon ko choom lena hai
aaj mujhko sharabi hona hai
aaj rivayaton ko tod dena hai
aaj ji bhar ke ji lena hai
aaj ji bhar ke ji lena hai

2/7/11

कहीं बोल ना पड़ें वो पुराने कैसेट kahin bol na paden vo purane cassette

कोई टिप्पणी नहीं:

चलो मुस्कुराते हैं आज चल के कहीं
फिर थोड़ा जी लेते हैं आज चल के कहीं
मेरी अलमारी मे रखी हैं तस्वीरें हमारी
मुझमे हिम्मत कहाँ देखूँ अकेले वो सारी
आप आ जायें तो पहले का जज़्बा जागे
उन सूखे फूलों की किस्मत भी जागे
कहीं बोल ना पड़ें वो पुराने कैसेट
कहीं ज़िंदा ना हो जायें किताबों मे गुलाब
आप आयें तो मुमकिन है ये सब होगा
आप के आने से बड़के भला क्या होगा....


chalo muskurate hain aaj chal ke kahin
fir thoda ji lete hain aaj chal ke kahin
meri alamari me rakhi hain tasveeren hamari
mujh'me himmat kahan dekhoon akele vo saari
aap aa jaayen to pahle ka jazaba jaage
un sookhe foolon ki kismat bhi jaage
kahin bol na paden vo purane cassette
kahin zinda na ho jaayen kitabon me gulaab
aap aayen to mumkin hai ye sab hoga
aap ke aane se bad'ke bhala kya hoga....

परिकल्पना: एक से बढ़कर एक हैं सब

कोई टिप्पणी नहीं:
PARIKALPNA - KAHIN KOI SIRA ADHURA NAHIN
परिकल्पना: एक से बढ़कर एक हैं सब
सादर समर्पित मेरी बहन रश्मि प्रभा को …
भरत तिवारी

1/7/11

एक क्षण…

1 टिप्पणी:

भरत तिवारी Bharat Tiwari

                           सप्रेम भरत…

नेटवर्क ब्लॉग मित्र