4/7/11

आज जी भर के जी लेना है / aaj ji bhar ke ji lena hai

आज बारिश-ए-हुस्न-ए-महबूब में भीगा हूँ
आज रंग-ए-इनायत-ए-रब  में भीगा हूँ
उनके इश्क की गर्म खुशबू में डूबा हूँ
उनकी आँखों की मासूम चमक से दमका हूँ
उनका कर के तस्सवुर आज
उनकी बाँहों के समंदर में डूबा हूँ
आज सी मुलाकात हुई न कभी
आज सी हसीं रात हुई न कभी
आज आया चाँद ज़मीन पे है
आज ही दिल-ए-आशिक मुस्कुराया है
ख्यालों को कलम बंद किया उसने मेरे
जान दी डाल हर्फों में है उसने मेरे
उसकी अदाओं से गीत बनता है
उसकी यादों से घर महकता है
नर्म उँगलियों को चूम लेना है
नर्म होठों को चूम लेना है
आज मुझको शराबी होना है
आज रिवायतों को तोड़ देना है
आज जी भर के जी लेना है
आज जी भर के जी लेना है
-===-
aaj barish-e-husn-e-mehboob men bheega hoon
aaj rang-e-inayat-e-rab  men bheega hoon
unke ishq ki garm khushabu men dooba hoon
unki aankhon ki masoom chamak se damka hoon
unka kar ke tassavur aaj
unki baanhon ke samandar men dooba hoon
aaj si mulakaat hui n kabhi
aaj si hasin rat hui n kabhi
aaj aaya chaand zameen pe hai
aaj hi dil-e-aashiq muskuraya hai
khyalon ko kalam band kiya usne mere
jaan di dal harfon men hai usne mere
uski adaon se geet banta hai
uski yaadon se ghar mahakta hai
narm ungaliyon ko choom lena hai
narm hothon ko choom lena hai
aaj mujhko sharabi hona hai
aaj rivayaton ko tod dena hai
aaj ji bhar ke ji lena hai
aaj ji bhar ke ji lena hai

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

स्वागत है

नेटवर्क ब्लॉग मित्र