16/7/11

बेढंगा समय और उसकी चालें... नरेन्द्र व्यास


अपनी अध्भुत सोंच और कलम से एक बार फिर विस्मय करते भाई नरेन्द्र व्यास जी ने वक्त की चाल को दिखा दिया है ... मंत्रमुग्ध भरत तिवारी

1 टिप्पणी:

  1. सही है...बड़े होने का यही लक्षण सबसे प्रमुख है कि ...हम रंग बदलना सीख जाते है...
    अच्छी प्रस्तुति !

    उत्तर देंहटाएं

स्वागत है

नेटवर्क ब्लॉग मित्र