10/7/11

साजन अपने खेल को खूब रच्यो तुम रंग
पर्दा पीछे छुप गयो बदल के आपन रंग !
पल मा चैन छीन के फेरे हौ अब नैन
अब छोडो ई छुपन छुपाई 'भरत' न छोड़ीयें संग !

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

स्वागत है

नेटवर्क ब्लॉग मित्र