19/10/11

कैसे करता है इश्क की बातें


कैसे करता है इश्क की बातें 
बिछा कर हर तरफ ज़िंदा लाशें 
ले कर किसी ऊपर वाले का नाम
मार देता है ज़िंदा इंसान 
हाथ पर हाथ रख बुत ना रहो
शमशीर उठाओ और शमशीर बनो 
दूर से देखोगे तमाशा कब तक
घर पहुँच जायेगी आग ये तब तक
मुंडेर हैं जुड़ी पड़ोस के घर से
सो रहा है तू और वो हैं रोते
अभी दस्तक तेरे किवाड़ पर भी आयेगी
तब जब उनकी चिता जल जायेगी
तेरी मिट्टी भी वहीँ होगी गरम
जिस जगह उसने थोड़ा होगा दम
अब कोई वक्त नहीं आयेगा
जो ना जागा तो तू सो जायेगा
और सो जायेंगे तेरे सारे ख्वाब
बस नज़र आयेगा "वो" दोस्त तेरा
जो खा रहा है गोस्त तेरा ...

अब कोई वक्त नहीं आयेगा
जो ना जागा तो तू सो जायेगा..
अब कोई वक्त नहीं आयेगा
जो ना जागा तो तू सो जायेगा...


Kaisē kartā hai iśhq kī bātēN
Bichā kar har taraf zindā lāśhēN
Lē kar kisī ūpar wālē kā nām
Mār dētā hai zindā insān
Hāth par hāth rakh but nā rahō
Śhamśhīr uṭhā'ō aur śhamśhīr banō
Dūr sē dēkhōgē tamāśhā kab tak
Ghar pahuNcha jāyēgī  āg yē tab tak
Muṇḍēr haiN juṛī padōs kē ghar sē
Sō rahā hai tū aur vō haiN rōtē
Abhī dastak tērē kivād par bhī āyēgī
Tab jab unkī chitā jal jāyēgī
Tērī miṭṭī bhī vahīN hōgī garam
Jis jagah usnē thōdā hōgā dam
Ab kō'ī vaqt nahīN āyēgā
Jō nā jāgā tō tū sō jāyēgā
Aur sō jāyēNgē tērē sārē khwāb
Bas nazar āyēgā" wō" dōst tērā
Jō khā rahā hai gōst tērā...
Ab kō'ī vaqt nahīN āyēgā
Jō nā jāgā tō tū sō jāyēgā...
Ab kō'ī vaqt nahīN āyēgā
Jō nā jāgā tō tū sō jāyēgā...

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

स्वागत है

नेटवर्क ब्लॉग मित्र