14-11-11

कीड़ा Kida

tकीड़ा ... रचनाकार भरत तिवारी
Click to read in Roman 

7 टिप्‍पणियां:

  1. Chha gaye Bharatji...sochne pe majboor karti hui...lal batti..

    उत्तर देंहटाएं
  2. उम्दा... क्या खूब कहा कि किरचे मैं एक एक बिम्ब होगा कीड़े जैसे दीखते होंगे तुम... वाह ... बच कर रहना रे बाबा इस कीड़े से .. कविता शानदार

    उत्तर देंहटाएं
  3. भरत जी
    बहुत खूब शानदार रचना बढ़िया पोस्ट ....

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर रचना है भरत भाई!

    उत्तर देंहटाएं
  5. Abhi tak ki meri padhi behtareen kavitaaon mein se ek! Ekdam original aur soch par jami dhool ko fatkaar kar udaati hui....bahut umda!

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत खूब....मैने पहले भी कहा है...फिर कहता हूँ.....अद्वितिय कल्पनाशीलता....शानदार रचना।

    उत्तर देंहटाएं

स्वागत है

नेटवर्क ब्लॉग मित्र