31/1/12

हसीन मोड़ का इन्तेज़ार Haseen modd ka Intezaar

ख़बर है के - आती ही नहीं
और याद है
pd haseen mod ka intizaar (blue monk)
- के जाती ही नही है
इन्तेज़ार - करते रहो !
प्यार - करते रहो !
करवटें - बदलते रहो .......
....... नींद - आती ही नही ! ! ! ! ! ! !
तेरा इन्तेज़ार - इबादत
ये प्यार - इबादत
करवटें - दर्द का समंदर
साँस - दर्द की लहर
और .......
....... मौत - आती ही नही ! ! ! ! ! ! !
"मौत" जो एक नाम है उस "रास्ते" का
जो ले जायेगा तुम तक
“मंज़िल” का एक "हसीन मोड़"
जाने कितनी दफ़ा गुज़रना है ...अभी !
जाने "कितना" इन्तेज़ार लिखा है तकदीर में अभी !
इंतज़ार की लम्बी
अँधेरी
सुरँग में - रौशनी नज़र आती ही नही ! ! ! ! ! ! !
… भरत तिवारी ३१/०१/२०१२ २२:३५, नई दिल्ली
 

© Oil on Canvas by  Purnima Dabholkar


Ḵẖabar hai kē - aatī hī nahīN
Aur yād hai
pd haseen mod ka intizaar (blue monk)
- Kē jātī hī nahī hai
Intēzār - kartē rahō !
Pyār - kartē rahō !
KarvaṭēN - badaltē rahō.......
....... Nīnd - aatī hī nahī ! ! ! ! ! ! !
Tērā intēzār - ibādat
Yē pyār - ibādat
KarvaṭēN - dard kā samandar
SāNs - dard kī lahar
Aur.......
....... Maut - aatī hī nahī ! ! ! ! ! ! !
" Maut" jō ēk nām hai us "rāstē" kā
Jō lē jāyēgā tum tak
"Man̄zil" kā ēk" hasīn mōd"
Jānē kitnī dafā guzarnā hai... Abhī !
Jānē "kitnā" intēzār likhā hai taqdīir mēN abhī !
Intēzār kī lambī
ANdhērī
SuraNg mēN - raushanī nazar aatī hī nahī ! ! ! ! ! ! !
Bharat Tiwari, 31/01/2012, 22:35, New Delhi

1 टिप्पणी:

  1. आपके लेखन को नमन भरत जी,बेहतरीन प्रस्तुति। दिल गहराइयों तक पिघल उठा...

    उत्तर देंहटाएं

स्वागत है

नेटवर्क ब्लॉग मित्र