9-3-12

Haan Mummy ! हाँ मम्मी !

छोटा शहर
– अपना
आवाज़ आयी
मेरा नाम लेकर , माँ बुला रही है

Chhota shahar
Apna -
Aawaaz aayi
Mera naam lekar, Maa bula rahi hai 

4 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सहज ढ़ग से भरत जी ने मां से संवाद स्थापित कर लिया और हमारा भी करवा दिया, अपने उद्देश्य में कामयाब काव्य है, सलाम.

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  2. माँ को याद करती आँखें दिखी मुझे..मार्मिक.

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  3. मार्मिक ... देर तक याद रह जाने वाली कविता.

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं

स्वागत है

नेटवर्क ब्लॉग मित्र