24/4/12

Hum bhi ussi men hain हम भी उसी में हैं

कुछ घोड़े लंबी दौड़ के हो जाते हैं
बाकी ...

कुछ लोग समय से आगे के होते हैं
बाकी...

कुछ संगीत आने वाले कल का होता हैं
बाकी...

कुछ रचनायें आज को कहती हैं
बाकी ...
Kuch ghode lambi dhoud ke ho jaate hain
Baaki …

Kuch log samay kea age ke hote hain
Baaki …

Kuch sangeet aane wale kal ka hota hai
Baaki …

Kuch rachnayen aaj ko kahti hain
Baaki …

“ये” लेबल लगाने वाले आज के होते हैं

“Ye” label  lagane wale aaj ke hote hain
बाकी बच गये “सब” पुराने
वो, जो इन के अलावा “सब-कुछ” जानते हैं
Baaki bach gaye “sab” purane
Wo, jo in ke alawa “sab-kuch” jaante hain
इनको कोई श्रेणी नहीं मिलती
हम भी उसी में हैं
बाकियों में ...

बकरी की माँ जैसे !
Inko koi shreni nahin milti
Hum bhi ussi men hain
Bakiyon men …

Bakri ki maa jaise !

भरत तिवारी २४.०४.२०१२, नई दिल्ली

Bharat Tiwari 24.04.2012, New Delhi

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

स्वागत है

नेटवर्क ब्लॉग मित्र