14/4/12

Itne arse baad mile ho / इतने अर्से बाद मिले हो

इतने अर्से बाद मिले हो 
कहाँ थे तुम 
तन्हा यहाँ छोड़ के मुझको 
कहाँ थे तुम...
कितने खत भेजे मैंने
कितने टेलीफोन किये
कितनी माँगी मन्नतें
कितने हम बेचैन रहे
एक झलक की खातिर 
पहरों पहर खड़े रहे...
दिन रातों मे रहे बदलते
और महीने सालों मे...
चढ़ता गया उम्र का पारा
याद का तेरी लिये सहारा
धूप बन गई अब जब धुंध
तब आये हो मिलने तुम
तन्हा यहाँ छोड़ के मुझको
कहाँ थे तुम...
इतने अर्से बाद मिले हो
कहाँ थे तुम .... 



Itne arse baad mile ho
Kahan the tum
Tanha yahan chhhod le mujhko
Kahan the tum
Kitne khat bheje maine
Kitne telephone kiye
Kitni maangin man’naten
Kitne hum bechain rahe
Ek jhalak ki khatir
Paron pahar khade rahe….
Din raaton me rahe badalte
Aur maheene saalon me…
Chaddta gaya umr ka paara
Yaad ka teri liye sahara
Dhoop ban gayi ab jab dhoondh
Tab aaye ho milne tum
Tanha yahan chhhod le mujhko
Kahan the tum
Itne arse baad mile ho
Kahan the tum




1 टिप्पणी:

  1. कितने खत भेजे मैंने
    कितने टेलीफोन किये
    कितनी माँगी मन्नतें
    कितने हम बेचैन रहे
    एक झलक की खातिर

    Dastkar ne ek baar phir Dastak di hai apne purane andaz me ... behad khoobsurat !! bahut shubhkamnayen aapko !!

    उत्तर देंहटाएं

स्वागत है

नेटवर्क ब्लॉग मित्र