30/5/12

Aaqa - ek bosa ek nigah-e-karam

कोई टिप्पणी नहीं:





एक बोसा एक निगाह-ए करम दे आका
आशिक को आज जलवा दिखा दे आका १



इश्क-ओ ईबादत में तकाज़ा नहीं करते 
मंज़िल-ए इश्क का तू पता दे आका २



सारी बुत ओ किताबें रखी हैं मुझ में   
कैसे देखूँ और पढूँ ये तो बता दे आका ३



हम तेरे ही रहे तू  भी हमारा हो जा
आ के अब लाज मेरी बचा दे आका ४



हर इक ग़म का तुही है यहाँ चारागर 
मुझ पे बारिश रहम की बरसा दे आका ५



अपने दर  आशिकों को  बुलाता है तू 
अब अपना चेहरा भी दिखा दे आका  ६



तेरा ज़र्रा संवारे शजर की हस्ती  
नूर-ए-जमाल मुर्शिद को दिखा दे आका  ७

Ek bosa ek nigaah-e karam de aaqa
Aashiq ko aaj jalva dikha de aaqa…1

Ishq-o-Ibaadat me takaza nahi karte
Manzil-e ishq ka tu pata de aaqa..2

Saari butt-o-kitaaben rakhi hain mujh me
Kaise dekhoon aur padhoon ye to bata de aaqa..3

Ham tere hi rahe, tu bhi hamara ho ja
Aa ke ab laaj meri bacha de aaqa..4

Har ik gham  ka tuhi hai yahaN charagar
Mujh pe Bearish raham ki barsa de aaqa  …5

Apne dar aashiqoN ko bulata hai tu
Ab apna chehra bhi dikha de aaqa…6

Tera zarra saNvaare ‘shajar’ ki hasti
Noor-ejamaal murshid ko dikha de aaqa…7



21/5/12

tumhe bula raha hai / तुम्हे बुला रहा है

1 टिप्पणी:
regards bharat tiwari ...

7/5/12

Ek taraf tumne mujhe apna bana rakha hai एक तरफ तुमने मुझे अपना बना रखा है

कोई टिप्पणी नहीं:

एक तरफ तुमने मुझे अपना बना रखा है

फिर मुसीबत ये के खुद को छुपा रखा है


    घर जो छोड़ा तो यादे भी छुट गयीं सारी

    इसी मुघालते ने मिटने से बचा रखा है



जो हो गया था शराबी इश्क में डूब कर

घर उसने अपना मयखाना बना रखा है


    याद करता है जब तुझे तो लहू रोता है

    जिस्म मिट्टी का उसने गर्द बना रखा है



एक कोशिश तुम भी कर के देख लो ‘शजर’

नाम तिरा वसीयत में उसने लिखा रखा है..
Ek taraf tumne mujhe apna bana rakha hai
Fir musibat ye ke khud ko chupa rakha hai





Ghar jo chhoda to yaadeN bhi chhuṭ gayiN saari

Isii mughaalate ne miṭne se bachaa rakha hai




Jo ho gayaa tha sharaabi ishq meN ḍoob kar

Ghar usne apnaa maykhaanaa banaa rakha hai





Yaad karata hai jab tujhe to lahoo rota hai

Jism miṭṭi ka usne gard bana rakha hai





Ek koshish ‘shajar’ tum bhi dekh lo kar ke

Naam tera vasiyat meN usne likha rakha hai..

नेटवर्क ब्लॉग मित्र