30/5/12

Aaqa - ek bosa ek nigah-e-karam






एक बोसा एक निगाह-ए करम दे आका
आशिक को आज जलवा दिखा दे आका १



इश्क-ओ ईबादत में तकाज़ा नहीं करते 
मंज़िल-ए इश्क का तू पता दे आका २



सारी बुत ओ किताबें रखी हैं मुझ में   
कैसे देखूँ और पढूँ ये तो बता दे आका ३



हम तेरे ही रहे तू  भी हमारा हो जा
आ के अब लाज मेरी बचा दे आका ४



हर इक ग़म का तुही है यहाँ चारागर 
मुझ पे बारिश रहम की बरसा दे आका ५



अपने दर  आशिकों को  बुलाता है तू 
अब अपना चेहरा भी दिखा दे आका  ६



तेरा ज़र्रा संवारे शजर की हस्ती  
नूर-ए-जमाल मुर्शिद को दिखा दे आका  ७

Ek bosa ek nigaah-e karam de aaqa
Aashiq ko aaj jalva dikha de aaqa…1

Ishq-o-Ibaadat me takaza nahi karte
Manzil-e ishq ka tu pata de aaqa..2

Saari butt-o-kitaaben rakhi hain mujh me
Kaise dekhoon aur padhoon ye to bata de aaqa..3

Ham tere hi rahe, tu bhi hamara ho ja
Aa ke ab laaj meri bacha de aaqa..4

Har ik gham  ka tuhi hai yahaN charagar
Mujh pe Bearish raham ki barsa de aaqa  …5

Apne dar aashiqoN ko bulata hai tu
Ab apna chehra bhi dikha de aaqa…6

Tera zarra saNvaare ‘shajar’ ki hasti
Noor-ejamaal murshid ko dikha de aaqa…7



कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

स्वागत है

नेटवर्क ब्लॉग मित्र