7/5/12

Ek taraf tumne mujhe apna bana rakha hai एक तरफ तुमने मुझे अपना बना रखा है


एक तरफ तुमने मुझे अपना बना रखा है

फिर मुसीबत ये के खुद को छुपा रखा है


    घर जो छोड़ा तो यादे भी छुट गयीं सारी

    इसी मुघालते ने मिटने से बचा रखा है



जो हो गया था शराबी इश्क में डूब कर

घर उसने अपना मयखाना बना रखा है


    याद करता है जब तुझे तो लहू रोता है

    जिस्म मिट्टी का उसने गर्द बना रखा है



एक कोशिश तुम भी कर के देख लो ‘शजर’

नाम तिरा वसीयत में उसने लिखा रखा है..
Ek taraf tumne mujhe apna bana rakha hai
Fir musibat ye ke khud ko chupa rakha hai





Ghar jo chhoda to yaadeN bhi chhuṭ gayiN saari

Isii mughaalate ne miṭne se bachaa rakha hai




Jo ho gayaa tha sharaabi ishq meN ḍoob kar

Ghar usne apnaa maykhaanaa banaa rakha hai





Yaad karata hai jab tujhe to lahoo rota hai

Jism miṭṭi ka usne gard bana rakha hai





Ek koshish ‘shajar’ tum bhi dekh lo kar ke

Naam tera vasiyat meN usne likha rakha hai..

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

स्वागत है

नेटवर्क ब्लॉग मित्र