9/6/12

अपनी मिट्टी भुला के जाओगे कहाँ Apni mitti bhula ke jaoge kahaN


अपनी मिट्टी भुला के जाओगे कहाँ   
Apni mitti bhula ke jaoge kahaN
Safar hai lamba akele jaoge kahaN

बहुत करीब होता है मिट्टी से रिश्ता
Bahut qareeb hota hai mitti se rishta
सिलसिला तोड़ कर ये जाओगे कहाँ
Silsila tod kar ye jaoge kahaN

जुड़े रहना बच्चे की तरह मिट्टी से
Jude rahna bachhe ki tarah mitti se
बिछड़ गये अगर माँ से जाओगे कहाँ
Bichad gaye agar maa se jaoge kahaN

न समझो सिर्फ धूल-ओ गर्द मिट्टी को
Na samjho sirf dhool-O-gard mitti ko
इसी में आखिर मिलोगे जाओगे कहाँ
Isii me aakhir miloge jaoge kahaN

घड़ा है एक बस तू भी मिट्टी का शजर
Ghadda hai ek bas tuu bhi mitti ka ‘shajar’
न धूप में जो तपोगे जाओगे कहाँ
Na dhoop me jo tapoge jaoge kahaN 



- shajar 
© 2012 Purnima Dabholkar Oil on Canvas *Price on demand 

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

स्वागत है

नेटवर्क ब्लॉग मित्र