24/9/12

तेरी अमानतों की फेहरिश्त से/ teri amanatoN ki fehrisht se














ज्यादा मुस्कान
मेरे हक़ में नहीं है
और जो है वो
सारी अमानत हैं तेरी
मुझे दुनिया के सवालों से
डर नहीं लगता
डरूं भी कैसे
जब सवालों को ही नहीं सुनता
इस जहान में
ज्यादा नज़र नहीं आता
और जो आना हो
तो भी वो आये कैसे
मेरी आँखों में
सिर्फ तेरा चेहरा बसता है
बंद कर लेता हूँ
जब दिल नहीं धड़कता है
तेरी तस्वीर इन आँखों से उतर कर दिल में
मेरी साँसों को
ज़िंदा करते हुये
सहला देती है धड़कन को मेरी

बची हुई मुस्कानों को गिन लेता हूँ
तुझसे मिलने की दुआ करने में खो कर खुदको













ziyada muskaan
mere haq me nahi hai
aur jo hai vo
saari amanat hai teri
mujhe duniya ke savaloN se
dar nahi lagta
darooN bhi kaise
jab savaloN ko hi nahi suntan
is jahan me
ziyada nazar nahi aata
aur jo aana ho
to vo bhi aaye kaise
meri aaNkhoN me
sirf tera chehra bas’ta hai
band kar leta hooN
jab dil nahi dhadakta hai
teri tasveer inn aaNkhoN se ut’r kar dil me
meri saNsoN ko
ziNda karte huye
sahla deti hai dhadkan ko meri

bachi hui muskaanoN ko gin leta hooN
tujse milne kii dua karne me kho kar khud ko

1 टिप्पणी:

  1. Woh pal haseen hote hi hain, kuchh muskaanein jehaan rehtee hain, kuchh gile jahaan teharte hain. Baaki to bas yadein hain , yadon ka kya ?

    उत्तर देंहटाएं

स्वागत है

नेटवर्क ब्लॉग मित्र