29/10/12

चमकते चाँद को गरहन लगाना काम है उसका | chamakte chaand ko garhan lagana kaam hai uska




चमकते चाँद को गरहन लगाना काम है उसका
दुकानें रौशनी की फ़िर सजाना काम है उसका

शहर की आग गाँवों में लगाना काम है उसका
हमारे खेतों को बंजर बनाना काम है उसका

रे महफ़िल कहेगा दाल रोटी के भी लाले हैं
मगर चुपचाप मुर्गे को उड़ाना काम है उसका

गुसलखाने कि दीवारें तिज़ोरी से नहीं कमतर
वहाँ भी ईंट सोने की लगाना काम है उसका

नहीं पहचान पाओगे शक्ल-ओ सूरत करो कोशिश
लगाना आग पहले फ़िर बुझाना काम है उसका

रहीम-ओ-राम इनके वास्ते सत्ता की हैं कुँजी
धरम के नाम पर सबको लड़ाना काम है उसका

हमें अपना बना कर फायदा वो खुब उठाता है
लगी बाज़ी नहीं के भूल जाना काम है उसका

बना कर कागजों पर खेत कहता है करो खेती
नदी की धार पर कब्ज़ा जमाना काम है उसका

‘भरत’ दिखता नहीं अपने सिवा उसको जहाँ में कुछ
हमारे हक़ की रोटी लूट खाना काम है उसका


chamakte chaand ko garhan lagana kaam hai uska
dukaneN roushni ki fir sajana kaam hai uska

shahar ki aag gaNvoN meN lagana kaam hai uska
hamare khetoN ko banjar banana kaam hai uska

sare mehfil kahega daal roti ke bhi lale haiN
magar chup-chaap murge ko uddana kaam hai uska

gusalkhane ki diwareN tizori se nahi kamtar
vahaN bhi iNt sone ki lagana kaam hai uska

nahi pahchan paoge shakl-o-surat karo koshish
lagana aag pahle fir bhujhana kaam hai uska

Rahim-o-Ram inke waste satta ki haiN kunji
dharam ke naam par sabko ladana kaam hai uska


hame apna bana kar fayda vo khub uthata hai
lagi bazi nahi ke bhool jaan kaam hai uska

bana kar kagazoN par khet kahta hai karo kheti
nadi ki dhar par kabza jamana kaam hai uska

‘Shajar’ dikhta nahi apne siva usko jahaN me kuch
hamare haq ki roti loot khana kaam hai uska

15 टिप्‍पणियां:

  1. mere seene main nahi to tere seene main sahi,
    ho kaheen bhi aag ,lekin aag jalni chaihye...
    bharat bhai aapki gazal ko salam...

    उत्तर देंहटाएं
  2. Beshak Ghazal ka ek naya rang hai, is tarha ka romancism bhi ek tarha ka anootha pan hai.

    उत्तर देंहटाएं
  3. हौसला बढ़ाने के लिये बहुत बहुत शुक्रिया सर
    सादर !

    उत्तर देंहटाएं
  4. achhee ghazal hui hai saab... badhai qubul farmaayen.

    arsh

    उत्तर देंहटाएं
  5. क्या बात है जी ....बहुत खूब


    पर एक अच्छी गज़ल कहना भी ...काम है आपका

    उत्तर देंहटाएं

स्वागत है

नेटवर्क ब्लॉग मित्र