11/6/13

सारे रंगों वाली लड़की

सारे रंगों वाली लड़की
bharat tiwari भरत तिवारी poetry poet shayar delhi कविता कवि प्रेम love
कहाँ हो

सूरज इस काली रात को
जिसने सब छिपा लिया
उसे धराशाई कर रहा है

आम के पेड़ में  अभी-अभी जागी कोयल
धानी से रंग का बौर
सब दिख रहे हैं
उन आँखों को
जो तुम्हे देखने के लिए ही बनीं

सारे रंगों वाली लड़की
कहाँ हो

तुम्हारी साँसों का चलना
मेरी साँसों का चलना है
और अब मेरी साँसें दूर हो रही हैं

सारे रंगों वाली लड़की
कहाँ हो

गए दिनों के प्रेमपत्र पढ़ता हूँ
जो बाद में आया – वो पहले
सूख रही बेल का दीवार से उघड़ना
सिरे से देखते हुए जड़ तक पहुँचा मैं
पहले प्रेमपत्र को थामे देख रहा हूँ – पढ़ रहा हूँ
देख रहा हूँ पहले प्रेमपत्र में दिखते प्यार को
और वहीँ दिख रहा है नीचे से झांकता सबसे बाद वाला पत्र
और दूर होता प्रेम

सारे रंगों वाली लड़की
कहाँ हो

वहाँ हो
यहाँ हो


भरत तिवारी, ११.६.२०१३  नई दिल्ली 


12 टिप्‍पणियां:

  1. और वहीँ दिख रहा है नीचे से झांकता सबसे बाद वाला पत्र
    और दूर होता प्रेम ....

    उत्तर देंहटाएं
  2. और वहीँ दिख रहा है नीचे से झांकता सबसे बाद वाला पत्र
    और दूर होता प्रेम ....

    उत्तर देंहटाएं
  3. "देख रहा हूँ पहले प्रेमपत्र में दिखते प्यार को
    और वहीँ दिख रहा है नीचे से झांकता सबसे बाद वाला पत्र
    और दूर होता प्रेम". अच्छी पंक्तियां हैं. झटका भी देती हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  4. bahut pyaari rachnaa ...waah ..aur do antim pankyiyaan ..kamaal ..poori rachnaa kaa kathya samaahit kar liyaa ............badhaai

    उत्तर देंहटाएं
  5. सारे रंगों वाली रचना .....लाजवाब ॥

    उत्तर देंहटाएं
  6. लाजवाब लिखा है भरत जी !

    उत्तर देंहटाएं

स्वागत है

नेटवर्क ब्लॉग मित्र