14/1/14

सुनो ! कब आओगी ?

                                   मैं इस किनारे बैठा था
                                   और वो 
                                   दूसरे किनारे से भी दूर 
                                   कही छुप के बैठी रही,
                                   खड़े हो कर मैंने जोर से आवाज़ लगाई
                                                       ... सुनो ! कब आओगी ?
                                   पानी में पत्थर की तरह आवाज़, 
                                   दो-तीन टिप्पे खा कर... गुडुप.

                                   कम से कम किनारे पर ही जाओ - 
                                   रात में टॉर्च को जला-बुझा कर बातें कर लेंगे.

                                   सुना है, रौशनी की गति आवाज़ से तेज होती है.
                                                                                  #BharatTiwari

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

स्वागत है

नेटवर्क ब्लॉग मित्र